Covid 19 अध्ययन : पुरुष ज्यादा हो रहे हैं शिकार?

ताइवान में हुआ ताजा अध्ययन

0 131

ताइवान में हुए एक ताजा अध्ययन में सामने आया है कि महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को Covid 19 से खतरा है। इस अध्ययन में वर्तमान कोरोना बीमारी या Covid 19 और 2003 कि सार्स (सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) बीमारी में अंतर भी बताया गया है। 2003 मेँ सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम चीन के हुबेई प्रान्त में फ़ैला था जिसमे चीन और हांगकाग के 774 लोग मारे गए थे, सार्स का पहला केस कोरोना वायरस के आपसी उत्परिवर्तन के कारण पैदा हुआ था।

इस नए वायरस का नाम सार्स-Co V नाम दिया गया था। माना जा रहा है कि सार्स-Co V-2 नामका वायरस ही वर्तमान की Covid 19 महामारी का कारण है।

ग्लोबल हेल्थ 50/50 का विश्लेषण व्यापक नहीं है क्योंकि इसने दुनिया की महज एक चौथाई आबादी का ही परीक्षण किया है। इसका कहना है, ‘हर देश में लिंग आधारित अलग-अलग आंकड़े सामने आए हैं जिसके मुताबिक महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों को Covid 19 होने का चांस 10 से 90 प्रतिशत तक ज्यादा पाया गया है।’

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन: काशी में कोई भूखा ना रहे, खुला भोले बाबा का दरबार

द ट्रैवल मेडिसिन एंड इन्फेक्शस में प्रकाशित हुई रिपोर्ट

द ट्रैवल मेडिसिन एंड इन्फेक्शस में प्रकाशित हुई रिपोर्ट में Covid 19 का कारण बताया गया है, इस शोध में कहा गया कि ताइवान में 31 जनवरी तक सामने आए थे और सार्स मरीज यहां 25 अप्रैल से 19 मई 2003 तक रहे थे।

इस अध्ययन में पाया गया है कि महिलाएं पुरुषों से ज्यादा इस सार्स बीमारी (प्रभावित होने वाले पुरुष महिलाओं को अनुपात 0.52:1) से प्रभावित होती हैं। जबकि Covid 19 से वुहान में पुरुष और महिलाओं के प्रभावित होने का रेशियो है 1.3:1। कुल मिलाकर कोरोना बीमारी से पुरुषों को ज्यादा खतरा है।

सार्स से 5 से 90 की आयु वाले लोग मुख्य रूप से प्रभावित होते हैं। हालांकि औसतन 36.6 साल कोरोना की तुलना में 20 साल कम है।

अध्ययन के आंकड़ों के अनुसार Covid 19 पुरुषों को ज्यादा प्रभावित करता है जो कि सार्स की तुलना में विपरीत है। इसके अलावा कोविड-19 से प्रभावित होने वाले ज्यादातर लोगों की उम्र सार्स के मरीजों से 20 साल कम है।

यह भी पढ़ें : कोरोना की गिरफ्त में विश्व की प्रमुख हस्तियां

महामारी से मरने वालों में 70% पुरुष

कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली महामारी Covid 19 ने दुनियाभर में महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों की जानें ज्यादा ली हैं। ग्लोबल हेल्थ 50/50 ने Covid 19 के शिकार होने जान गंवाने वालों का विश्लेषण कर यह निष्कर्ष निकाला है। कोविड-19 का नया केंद्र बने इटली में कुल Covid 19 पॉजिटिव लोगों में पुरुषों का प्रतिशत 60 है जबकि इस महामारी से मरने वालों में 70% पुरुष हैं। यह आंकड़ा इटली के नैशनल हेल्थ इंस्टिट्यूट ने जारी किया है। वहीं, चीन और दक्षिण कोरिया में भी यही ट्रेंड सामने आया। अमेरिका ने अब तक लैंगिक आधार पर मौतों का आंकड़ा पेश नहीं किया है।

इसकी वैज्ञानिक वजह सामने नहीं आई

इतना तो स्पष्ट है कि पुरुषों पर इसकी कोई वैज्ञानिक वजह सामने नहीं आई। अनुमान यह जताया जा रहा है कि पुरुष धूम्रपान ज्यादा करते हैं, इसलिए उनके महत्वपूर्ण शारीरिक अंग पहले से ही डैमेज होते हैं। चूंकि Covid 19 उन लोगों पर तेजी से असर करता है जो पहले से ही बीमार हैं या जिनका इम्यूनिटी लेवल कम है, इसलिए पुरुष इसका ज्यादा शिकार हो रहे हैं।

ये हो सकते हैं प्रमुख कारण

चीन का ही उदाहरण ले लीजिए। यहां धूम्रपान करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी आबादी रहती है। आधे से ज्यादा चीनी पुरुष धूम्रपान करते हैं जबकि महज 3% चीनी महिलाओं को ही धूम्रपान की लत है। उसी तरह, इटली में 70 लाख पुरुष जबकि 45 लाख महिलाएं धूम्रपान करती हैं। दरअसल, इटली में Covid 19 से मरने वाले 99% लोगों को पहले से कोई-न-कोई बीमारी थी। इनमें 75% को हाई ब्लड प्रेशर था।

कोरोना से पहले भी दिखा यही ट्रेंड

कोरोना वायरस के फैलने से पहले SARS और MERS के दौरान भी यही ट्रेंड देखने को मिला था। सऊदी अरब से पैदा हुए MERS-Cov पर किए गए अध्ययन में पता चला कि इस बीमारी से अपेक्षाकृत ज्यादा पुरुषों की मौत का कारण यह हो सकता है कि महिलाएं साफ-सफाई और अच्छे स्वास्थ्य के अनुकूल व्यवहार को ज्यादा तवज्जो देती हैं। ऐसा H1N1 की महामारी के दौरान देखा गया था। अध्ययन के परिणाम कहते हैं कि महिलाओं की मृत्यु दर की एक वजह यह भी हो सकती है कि सऊदी अरब में ज्यादातर महिलाएं बुरका पहनती हैं।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More