लॉकडाउन: ट्रेन ना मिली तो स्कूटी से ही तय किया मुम्बई से बनारस का सफर

0 135

कोरोना की दहशत के बीच मजबूरी का दूसरा नाम बन चुका है लॉकडाउन। लॉकडाउन की मार से समाज का हर तबका बेहाल है। सबसे अधिक मार उन लोगों पर पड़ रही है जो रोजगार के लिए दूसरे शहरों में अभी तक रहते थे। लॉकडाउन के बाद हर किसी की अपने घर जाने की जल्दी है। लेकिन बहुत कम लोग ही खुशनसीब हैं, जो इसमें कामयाब हो पाए हैं। घर जाने की जद्दोजहद में लोग तमाम जतन कर रहे हैं। इन्हीं लोगों में शामिल है सोनभद्र का एक युवक जिसने मायानगरी मुम्बई से अपने गांव का सफर स्कूटी से तय किया।

यह भी पढ़ें : Corona: गेरुआ चोले में घूम रहा था फ्रांसीसी, पुलिस ने दबोचा

दो दिन में तय किया 1700 किमी का सफर

पेशे से इंजीनियर यह युवक पिछले कुछ महीनों से मुम्बई रह रहा था। मुम्बई में लॉकडाउन के बाद युवक के सामने खाने पीने के साथ दूसरी समस्या सामने आने लगी। लिहाजा उसने घर जाने की ठानी, लेकिन परेशानी ये थी कि ना तो हवाई जहाज चल रहे थे और ना ही ट्रेन और बस। कोई चारा ना देख युवक अपनी स्कूटी लेकर ही अपने गांव के लिए निकल गया। इस दौरान युवक ने 1700 किमी का सफर लगभग 58 घंटे में तय किया। युवक नासिक, भोपाल और जालौन में रुका। सफर तय करने के लिए उसने स्कूटी में 40 लीटर पेट्रोल भरवाया।

यह भी पढ़ें : बुजुर्गों पर कैसे आफत बनकर टूट रहा है Corona ?

पैदल ही चल पड़े हैं घर

कई तो ऐसे भी लोग हैं जो पैदल ही अपने घरों की ओर चल पड़े हैं। हाई वे पर कई ऐसे लोग दिखे जिन्हें अपनों के पास पहुंचने की जल्दी थी, लेकिन लॉकडाउन के आगे बेबस दिखे। बावजूद इसके हौसला रखते हुए ये लोग पैदल ही चल पड़े हैं।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More