कंडोम का इतिहास : आदि मानव भी करते थे इस्तेमाल ? इन चीजों से बनाया जाता था निरोध

0 5,126

हम 21वीं सदी में जी रहे है लेकिन आज की तारीख में भी सेक्स और कंडोम बारे में बात करने में संकोच करते हैं। लेकिन आपको यह जानकार हैरानी होगी कि आदि मानव भी कंडोम का इस्तेमाल करते थे।

कंडोम के इतिहास के बारे में कहा जाता है कि इसे सबसे पहले 16वीं शताब्दी में जानवरों की आंत से बनाया जाता था। यही कारण है कि उस वक्त कंडोम की कीमत काफी ज्यादा होती थी। कंडोम के इतिहास को लेकर दो तरह के पक्ष सामने आए हैं।

फ्रांस की गुफा में मिली कंडोम की पेंटिंग-

condom-painting

पहले पक्ष में आने वाले इतिहासकारों का दावा है कि कंडोम का नाम ‘डॉक्टर कंडोम’ नाम पर पड़ा था। डॉक्टर कंडोम ने 16वीं शताब्दी में भेड़ के चमड़े से बना कंडोम किंग चार्ल्स द्वितीय को दिया था। हालांकि इतिहासकारों का दूसरा पक्ष इस बात से पूरी तरह से असहमत है।

कंडोम के इतिहास को लेकर एक रिपोर्ट में बताया गया है कि फ्रांस की एक गुफा में करीब 12000-15000 साल पुरानी पेंटिंग मिली थी। उस पेंटिंग में कंडोम जैसा दिखने वाले चित्र भी बने हुए थे।

17वीं शताब्दी में शुरू हुआ कंडोम का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल-

condom

हालांकि इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि उस समय कंडोम का इस्तेमाल अनचाहे गर्भ से बचने के लिए किया जाता था या किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल में लाया जाता था। कंडोम का असली इतिहास क्या है, इसमें अलग-अलग इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं।

लेकिन इतना तो साफ है कि 17वीं शताब्दी में कंडोम का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल शुरू हो चुका था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ब्रिटेन के डुडली कैसल में खुदाई के दौरान वहां मध्ययुगीन शौचालयों से कुछ कंडोम मिले थे। खुदाई में मिले कंडोम जानवरों की आंतों से बनाए गए थे।

रबर के कंडोम के अविष्कार-

rubber condom

रिपोर्ट्स में कहा गया है कि जानवरों की आंतों से बने कंडोम 1646 के आसपास इस्तेमाल में लाए जाते थे। हालांकि रबर से बने कंडोम का आविष्कार 1839 में चार्ल्स गुडइयर ने किया था।

उन्होंने रबर के कंडोम के अविष्कार के बाद 1844 में इसका पेटेंट भी करा लिया था। जिसके कुछ साल बाद से ही कई कंपनियों ने रबर के कंडोम बनाने शुरू कर दिए थे।

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच सरकार का बड़ा फैसला, मुफ्त में बांटेगी कंडोम!

यह भी पढ़ें: काला जादू, कंडोम का ढेर और खूनी महिला, पढ़िए अनसुनी खबर

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More