MANDSOR

मंदसौर गैंगरेप : दोषी दरिंदों को जीवित रहने का कोई अधिकार नहीं : शिवराज

मध्य प्रदेश के मंदसौर में मासूम के साथ हैवानियत का पूरा देश विरोध कर रहा है। सीएम शिवराज सिंह चौहान मे गैंगरेप में दोषी दरिंदों फांसी देने की बात कही है। मंदसौर में सात साल की मासूम बच्‍ची के साथ निर्भया जैसी हैवानियत के आरोपियों ने इस खौफनाक वारदात को अंजाम देने से पहले पूरी प्‍लानिंग की थी और लंबे समय तक स्‍कूल के मासूम बच्‍चों पर नजर रखी थी। पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि आरोपियों ने जानबूझकर उस बच्‍ची को चुना जो कम उम्र की हो और रेप का विरोध न कर सके।

दोस्त के साथ मिलकर दिया घटना को अंजाम

इस बीच गैंगरेप की इस घटना ने पूरे देश को हिला दिया है और दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग तेज हो गई है। इससे पहले शुक्रवार को मंदसौर पुलिस ने गैंगरेप की घटना के दूसरे आरोपी को अरेस्‍ट कर लिया। इस मामले में पकड़े गए पहले आरोपी इरफान (20) ने पुलिस पूछताछ में बताया कि बच्ची से बलात्कार की वारदात में उसके साथ मंदसौर के मदरपुरा का रहने वाला आसिफ भी शामिल था। इसके बाद पुलिस ने इस मामले के दूसरे आरोपी को भी धर दबोचा।

Also Read :  कांग्रेस : नीतीश के लिए दरवाजे बंद करने वाले तेजस्वी कौन?

उधर, मासूम बच्‍ची अभी भी हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है। उसकी कई सर्जरी की गई है। मंदसौर पुलिस ने अपने चौंका देने वाले खुलासे में बताया कि आरोपियों ने बच्‍ची के बर्बरता की पूरी प्‍लानिंग की थी। यही नहीं उन्‍होंने गैंगरेप के बाद काफी देर उन वस्‍तुओं की तलाश की जिससे उसके प्राइवेट पार्ट्स को नुकसान पहुंचाया जा सके। गला काटने के बाद वे लोग कथित रूप से शराब पी रहे थे जबकि बच्‍ची का खून बह रहा था।

दोषियों को दी जाए फांसी

मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरोपियों को दरिंदा करार देते हुए शुक्रवार को कहा, ‘ये दरिंदे धरती पर बोझ हैं, ये धरती पर जीवित रहने के लायक नहीं हैं।’ उन्‍होंने कहा, ‘बलात्कार के मामलों में हमने प्रदेश में फास्ट ट्रैक अदालत में कार्यवाही करने के प्रावधान किए हैं। सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट से भी इस प्रकार के प्रावधान करने का अनुरोध किया है ताकि इस तरह के अपराध करने वाले आरोपियों के खिलाफ शीघ्र अदालती कार्यवाही कर उन्हें फांसी की सजा दी जा सके।’

दोषियों को खिलाफ है पर्याप्त सुबूत

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘यह दर्दनाक घटना है, हम पीड़ित परिवार के साथ हैं और पीड़िता की हालत पर लगातार ध्यान दे रहे हैं। उसकी हालत में सुधार हो रहा है और मैं डाक्टरों के संपर्क में हूं।’ उन्होंने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है तथा उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। इस मामले को फास्ट ट्रैक अदालत में चलाया जाएगा और हम यह सुनिश्चत करेंगे कि आरोपी को शीघ्र फांसी की सजा दिलवाई जा सके एसपी मनोज सिंह ने दूसरे आरोपी के बारे में कहा, ‘एक स्‍कूली बच्‍चे ने लड़की का अपहरण करने वाले दूसरे आरोपी को देखा था। वह नारंगी रंग की टी-शर्ट पहने हुए था। सीसीटीवी फुटेज में इरफान को नीले रंग की शर्ट पहने देखा गया था। जांच के दौरान इरफान ने स्‍वीकार किया कि उसने अपने मित्र आसिफ के साथ मिलकर इस हैवानियत की साजिश रची थी। हमने उसे तत्‍काल अरेस्‍ट कर लिया।’

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)