कानपुर एनकाउंटर: चौबेपुर SO विनय तिवारी निलंबित, STF कर रही पूछताछ

0 378

उत्तर प्रदेश के कानपुर मुठभेड़ में चौबेपुर एसओ विनय तिवारी की भूमिका पर सवाल उठ रहे थे। इन्हें आईजी रेंज कानपुर ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। एसटीएफ की एक टीम विनय से मुठभेड़ के संबंध में पूछताछ भी कर रही है।

दबिश में शिथिलता बरतने के आरोप में विनय तिवारी निलंबित

कानपुर के चौबेपुर के प्रभारी रहे विनय तिवारी को विकास दुबे के घर पर दबिश में शिथिलता बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। एसटीएफ ने विनय तिवारी को हिरासत में लिया है। जांच में दोषी मिलने पर तिवारी को निलंबित किया गया है। इस मामले में संदिग्ध भूमिका मिलने पर विनय तिवारी के खिलाफ भी केस दर्ज होगा। चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी को निलंबित किए जाने के बाद वहां के थानाध्यक्ष का चार्ज पुष्पराज सिंह को दिया गया है।

‘मामले में संलिप्तता पाई गई तो होगी बर्खास्तगी’

पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) मोहित अग्रवाल का कहना है कि यदि किसी की भी इस मामले में संलिप्तता पाई गई तो उसकी बर्खास्तगी भी होगी और गिरफ्तारी भी की जाएगी। विकास दुबे के मकान गिराए जाने पर आईजी ने कहा कि ग्रामीणों का कहना है कि विकास दुबे ने अनाधिकृत रूप से जमीन को कब्जा करके अवैध रूप से मकान बना रखा था। ग्रामीणों में जिसको लेकर काफी आक्रोश था। जिसको लेकर संबंधित विभागीय द्वारा कार्रवाई की जा रही है।

चौबेपुर थानाध्यक्ष रहे विनय तिवारी की भूमिका पर उठे सवाल

सूत्र बताते हैं कि पुलिस टीम के विकास दुबे के घर पर दबिश की तैयारी को लेकर चौबेपुर थानाध्यक्ष रहे विनय तिवारी की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं। बुधवार को राहुल तिवारी की शिकायत पर थानाध्यक्ष विकास दुबे के गांव बिकारू गए थे और बताया जा रहा है कि विनय तिवारी की मौजूदगी में ही विकास दुबे ने राहुल तिवारी को पीटा था। विनय तिवारी ने जब बीच-बचाव का प्रयास किया तो उनका मोबाइल छीनकर विकास दुबे ने उनके साथ अभद्रता की। एसओ ने उससे पूछताछ की। जिसके चलते दोनों के बीच झड़प हुई। विकास और एसओ के बीच हाथापाई भी हो गई थी जिसके बाद पुलिस लौट आई। इसके बाद गुरुवार को पुलिस ने राहुल तिवारी की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर ली और उसके बाद विकास को पकड़ने के लिए सीओ बिल्हौर के नेतृत्व में दबिश के लिए अपरेशन तैयार किया गया।

बदमाशों को पुलिस की दबिश देने की पहले से थी जानकारी

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि बदमाशों को पुलिस के दबिश देने आने की जानकारी पहले से थी। यह सूचना पुलिस से अथवा किसी अन्य स्रोत से लीक हुई, इन सभी बिंदुओं पर गहनता से जांच कराई जा रही है।

SSP ने इन पुलिस अफसरों को दी तैनाती

वहीं संतोष कुमार सिंह को सीओ बिल्हौर और कृष्णा मोहन राय को इंस्पेक्टर चौबेपुर बनाया गया है। सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा के शहीद होने और एसओ चौबेपुर विनय तिवारी के निलंबित होने के बाद एसएसपी दिनेश कुमार पी ने इन दोनों पुलिस अफसरों की नियुक्ति की।

सरकारी नंबर की गाड़ी से बदमाश के भागे जाने की जताई जा रही आशंका

विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश दुबे के घर में सरकारी नंबर की कई गाड़िया खड़ी मिलीं। बड़ी खबर यह सामने आ रही है कि इन गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन अभी तक नही कराया गया था। एक महीने के अंदर रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होता है। बताया जा रहा है कि विकास दुबे बिना रजिस्ट्रेशन के सरकारी गाड़ियों का इस्तेमाल करता रहा और विकास दुबे के सरकारी नंबर की गाड़ी से भागे जाने की भी आशंका जताई जा रही है। बता दें कि राजधानी के कृष्णा नगर इलाके में प्रकाश दुबे का आवास है।

पुलिस टीम पर हमले में सीओ सहित आठ की हत्या

ज्ञात हो कि कानपुर के चौबेपुर में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला करने के बाद सीओ सहित आठ की हत्या के बाद दुदार्ंत अपराधी विकास दुबे भले ही फरार है, लेकिन उसपर शिकंजा कसता जा रहा है। मुख्यमंत्री के निर्देष के बाद डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी के साथ एडीजी लॉ एंड अर्डर प्रशांत कुमार तथा आइजी एसटीएफ के कानपुर में कैंप करने से कार्रवाई भी गति पकड़ चुकी है।

यह भी पढ़ें : कानपुर : हिस्ट्रीशीटर को दबोचने गई टीम पर फायरिंग, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद

यह भी पढ़ें : विकास दुबे : इस तरह हिस्ट्रीशीटर ने ली थी राजनीति में एंट्री, अपराध से बनाई सत्ता में गहरी पैठ

यह भी पढ़ें : कानपुर की घटना पर बोले अखिलेश : अपराधियों को जिंदा पकड़कर…

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More