बदमाशों से चंगुल से छूटा चंदौली का अपहृत डॉक्टर

पुलिस ने मुठभेड़ के बाद डॉक्टर का अपहरण करने वाले चार बदमाशों को किया गिरफ्तार ...

0 385

फिरौती के लिए बदमाशों ने जिस डॉक्टर अमरेश्वर कुशवाहा का अपहरण किया था पुलिस ने उसे सकुशल उनके चंगुल से छुड़ा लिया साथ ही फिरौती की रकम भी बरामद कर लिया. पुलिस की कार्रवाई में एक बदमाश गोली लगी है. वहीं एक पुलिस कर्मी भी घायल हो गया. पुलिस ने घायल समेत चार बदमाशों को गिरफ्तार किया है.

ये भी पढ़ें…आजमगढ़ में ताबड़तोड़ चलीं गोलियां, एक की मौत

लगायी गयी थीं पुलिस की आधा दर्जन टीमें

अपहृत चिकित्सक का पता लगाने के लिए आईजी के निर्देश एसपी चंदौली ने जिले में रात भर वाहन चेकिंग अभियान चलाया. पुलिक की आधा दर्जन टीमें भी लगाई गई थीं. बुधवार की भोर में पुलिस को सूचना मिली कि हाईवे से वाराणसी की तरफ दो बदमाश स्कर्पियो से जा रहे हैं. एसओ अलीनगर , बिलारीडीह, पीडीडीयू नगर पुलिस ने उनका पीछा किया. बिलारीडीह के पास हाईवे पर पुलिस से घिरा देख बदमाशों ने पुलिस कर्मियों पर फायरिंग कर दी.

जवाबी फायरिंग में स्कार्पियो से उतरकर राजीव सिंह नामक बदमाश भागने लगा. पुलिस की गोली उसके पैर में लगी. गोली लगते ही वह गिर गया. अन्य पुलिस कर्मियों ने स्कार्पियो को घेर लिया उसमें बैठे एक अन्य बदमाश को गिरफ्तार किया. उनसे पूछताछ में रामनगर टेंगरा मोड़ स्थित एक मकान में सुबह छापेमारी की तो दो बदमाशों को गिरफ्तार किया. एक कमरे में चिकित्सक रस्सी से बंधा मिला. घर की तलाशी लेने पर 40 लाख 50 हजार पांच सौ रुपये बरामद हुए.

कार में जबरन उठा ले गए थे बदमाश

होम्योपैथिक चिकित्सक डॉक्टर अमरेश्वर कुशवाहा की चहनियां कस्बा में डिस्पेंसरी है. 31 मई की रात नौ बजे डिस्पेंसरी बंद कर बाइक से घर जा रहा था. लक्ष्मणगढ़ गांव के पास कार सवार बदमाशों ने बाइक में टक्कर मार दी और बाइक ओवरटेक कर कार आगे रोक दी. जबरन चिकित्सक को कार में बिठाकर रामगढ़ की ओर भाग निकले. पुलिस को चिकित्सक की बाइक लावारिस हालत में मिली थी. बदमाशों ने चिकित्सक के परिवार से 70 लाख रुपये रंगदारी मांगी थी लेकिन 40 लाख 50 रुपये ही दे सके थे.

परिवार से पहले भी मांगी गयी थी रंगदारी

वर्ष 2000 में चिकित्सक के पिता डॉक्टर घनश्याम दास कुशवाहा से बदमाशों ने पांच लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी. वर्ष 2008 में सोने की सिकड़ी व छह हजार रुपये बदमाशों ने लूट लिए थे. वर्ष 2012 में डाक्टर घनश्याम दास के बड़े भाई डॉक्टर वंशनारायण मौर्या रमौली से क्लिनिक बंद कर घर आ रहे थे. बीच रास्ते बदमाशों ने तमंचा सटाकर 17 हजार रुपये छीन लिए थे.

यह भी पढ़ें : भिखारी के कमरे से मिले नोटों से भरे 2 संदूक, रकम देख फटी रह गई लोगों की आंखें

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More