Browsing Category

Views फैक्ट्री

आर्थिक तंगी से जूझ रहे ब्राह्मणों की आंखों में टिमटिमाने लगी है उम्मीद की…

चुनावी बिसात की बलिहारी लंबे दौर से हाशिए पर चल रहे ब्राह्मण समाज की सियासी हैसियत की पौबारह हो गई है। इन्हें रिझाने-मनाने को लेकर…

यूपी में सत्ता की गलियों में कई टोटके दशकों से कायम हैं | 2 The Point

यूपी में सत्ता की गलियों में कई टोटके दशकों से कायम हैं... अपशगुन बंगला हो, मुख्यमंत्री के नोएडा जाने मसला हो... सियासत में टोटके,…

इमरजेंसी : जब जुबान पर पड़ा था डाका – भाग दो

साहित्‍यकारों, पत्रकारों की कलम हमेशा से विद्रोह की मशाल बनकर जली है। इमरजेंसी के उस दौर में कलम ने अपनी इसी कर्तव्‍य का पालन किया

इमरजेंसी : 26 जून 1975 का वह मनहूस सबेरा – भाग एक

स्‍वतंत्र भारत के राजनैतिक इतिहास में इमरजेंसी का दौर काली स्‍याही से दर्ज है। तकरीबन 21 महीने के उस दौर में भारत ने विरोध की…

तो हमारी ट्रेनें उम्रदराज होने के चलते भूल गयीं अपनी राह !!

डेढ़ सौ साल से ज्यादा उम्रदराज हो चुकी है भारतीय रेल। जी हां, दरअसल, 16 अप्रैल, 1853 को पहली दफे देश में रेल चली, इस हिसाब से…

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More