महिला आरक्षी से परेशान था सिपाही, सुसाइड नोट में बयान किया दर्द, पत्नी से कहा- बच्चों का ख्याल रखना…

0 1,485

यूपी के बुलंदशहर के भूड़ चौराहे पर स्थित एक होटल में फंदे से लटककर आत्महत्या करने वाले सिपाही के पास से पांच पन्नों के सुसाइड नोट मिल था। इस सुसाइड नोट में सिपाही ने जिस महिला आरक्षी का जिक्र किया था उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

सुसाइड नोट में मृत​क सिपाही ने कई बातें लिखी जिसे पढ़कर उसके साथ व परिवार वालों की आंखे नम हो गई। नोट में आरोपी महिला सिपाही को संबोधित करते हुए उसके द्वारा किए गए कृत्यों का उल्लेख किया गया है।

पत्नी के लिए लिखी ये बातें-

पत्नी को संबोधित करते हुए सुनील ने पत्र में लिखा है कि वह हमेशा उसे चरित्रवान समझती थी, लेकिन यह सच नहीं है। डायल 112 पर तैनात महिला कांस्टेबल पूजा उसे तंग कर रही है, जो वह बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है।

उसने जीने की बहुत कोशिश की, लेकिन महिला आरक्षी द्वारा बार बार धमकी दी जा रही है। बहुत डर चुका हूं, न खा पा रहा हूं और न ही पी पा रहा हूं। मृतक ने लिखा कि मेरी मृत्यु मेरे हाथों जरूर हो रही है, लेकिन यह समझ लेना यह कदम आरोपी महिला आरक्षी के द्वारा उठवाया जा रहा है।

सुसाइड नोट में लिखा, मैं बहुत दुखी हूं, यह समझ लो कि मैं तुम सबको छोड़ कर जा रहा हूं। मैं बहुत भय में जी रहा हूं। मैं आरोपी महिला के अत्याचारों से बहुत ही दुखी हूं। मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं, बच्चों का ख्याल रखना।

‘प्रार्थना करता हूं, तू बर्बाद रहे हमेशा’-

मृतक सिपाही सुनील ने एक पत्र में आरोपी महिला आरक्षी को संबोधित करते हुए बहुत से आरोप लगाए हैं। उसने लिखा है कि मैं चरित्रहीन बिल्कुल नहीं हूं। तुझसे अपनी इज्जत खराब करा लूं, उससे बेहतर है मैं खुद ही मर जाऊं।

आगे लिखा, मैं तुझसे तंग आ गया हूं, इसलिए मैं मर रहा हूं। यह तय है कि तूने मेरा घर परिवार बर्बाद कर दिया। तू भी कभी खुश नहीं रहेगी। भगवान से प्रार्थना करता हूं कि तू हमेशा बर्बाद ही रहे।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर : कांस्टेबल को हत्या के लिए उकसाने पर आरोपी महिला सिपाही गिरफ्तार, भेजा गया जेल

यह भी पढ़ें: होटल के कमरे में लटकती मिली सिपाही की लाश, सुसाइड नोट में महिला सिपाही मित्र पर लगाए गंभीर आरोप

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More