गोमती नदी में गिरी बोलेरो, एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू, 7 लोग बचाए गए, 1 की मौत

गोमती में समाई बोलेरो

0 385

सोमवार देर रात बोलेरो से घूमने के लिए निकले आठ दोस्त निशातगंज क्षेत्र में पेपर मिल कालोनी के पास गोमती रिवर फ्रंट पर गाड़ी चला रहे थे। ढाल से उतरते समय रफ्तार तेज होने के कारण गाड़ी से नियंत्रण खो गया और बोलेरो गोमती नदी में जा गिरी। हादसे में गाड़ी का अगला शीशा टूट गया। चार दोस्त किसी तरह गेट खोलकर बाहर निकले। वो तैरना जानते थे इसलिए बाहर निकल आए। इसके बाद तीन और लोगों को भी बचा लिया। जबकि एक युवक गोमती के गहरे पानी में जाने के कारण डूब गया। सूचना पर कुछ ही देर में महानगर पुलिस और एसडीआरएफ के जवानों ने करीब तीन घंटे के रेस्क्यू के बाद डूबे निखिल गुप्ता का शव गोमती से बरामद कर लिया। दोस्तों ने बताया कि निखिल पारा क्षेत्र के बुद्धेश्वर का रहने वाला है। इंस्पेक्टर महानगर प्रदीप कुमार सिंह ने उसके घरवालों को सूचना दी। कुछ ही देर में परिवारीजन आ गए और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

ये भी पढ़ें- विशेषज्ञों का अनुमान, सितंबर-अक्टूबर में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, बेहद खराब होंगे देश के हालात

क्रेन से निकलवाई गई बोलेरो

गोमती नदी

सूचना पर एडीसीपी उत्तरी प्राची सिंह और इंस्पेक्टर महानगर प्रदीप कुमार पुलिस बल के साथ पहुंचे। पुलिस टीम ने क्रेन मंगवाई। क्रेन और एसडीआरएफ के जवानों की मदद से कांटे में बोलेरो फंसाकर निकाली गई। नदी में गिरने के कारण गाड़ी भी क्षतिग्रस्त हो गई थी।

गोताखोरों ने चार घंटे किया रेस्क्यू

गोमती नदी

सडीआरएफ को रात करीब 2.10 बजे सूचना दी गई। कमांडेंट आइपीएस डा. सतीश कुमार के निर्देशन में इंस्पेक्टर चंद्रेश्वर की अगुवाई में आनन फानन 18 लोगों की टीम भेजी गई। जिसमें विशेष गोताखोर और रेस्क्यू एक्सपर्ट जवान थे। इंस्पेक्टर चंद्रेश्वर और उनकी टीम पहुंची और रास्ते में ही डीप डाइविंग सूट और अत्याधुनिक उपकरणों से लैस हो गई। गोमती रिवर फ्रंट पर पहुंचते ही एक-एक कर जवान नदी में कूदे। कम्यूनिकेशन सिस्टम लिए और बीए सेट के साथ ऑक्सजीन सिलिंडर बांधे जवानों ने अंडर वॉटर टार्च जलाकर सर्च आपरेशन शुरू किया। कड़ी मशक्कत के बाद गोताखोरों ने बोलेरो को खोज निकाला। इसके बाद क्रेन की मदद से बोलेरो को बांधकर बाहर निकला गया। इसमें करीब छह बज गया। वहीं, चार गोताखोर निखिल को खोजने में लगे थे। करीब साढ़े छह बजे गोताखोरों ने निखिल को खोज निकाला। तब तक निखिल की मौत हो चुकी थी।

ये भी पढ़ें- ज्यादा बच्चे पैदा करने वालों को मिलेंगे 1 लाख रुपये, जानिये- किस राज्य के लोगों को मिलेगा योजना का लाभ

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More