Atal Bihari Vajpayee

गंगा में विसर्जित हुईं अटल जी की अस्थियां, देखें तस्वीरें…

हरिद्वार के भल्ला कॉलेज से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा रविवार को निकाली गई। यात्रा मार्ग पर लोगों का भारी सैलाब उमड़ पड़ा। जिसके बाद हरकी पैड़ी में मंत्रोच्चारण के साथ मां गंगा में अटल बिहारी वाजपेयी जी अस्थियां विसर्जित कर दी गईं।

भल्ला इंटर कॉलेज से हरकी पैड़ी के लिए अस्थि कलश यात्रा शुरू हुई। यात्रा लगभग तीन किमी. का सफर तय करेगी।

अस्थि कलश रथ में अटलजी के परिजनों के साथ भाजपा नेता

अस्थि कलश रथ में अटलजी के परिजनों के साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित उत्तराखंड के सरकार के मंत्री शामिल हुए।

Also Read :  अखिलेश के होटल निर्माण पर हाइकोर्ट ने लगाई रोक

यात्रा मार्ग पर लोग पुष्प वर्षा करते गए अटलजी को श्रद्धांजलि देते रहे। कई लोगों ने अपने कैमरे में यह पल कैद किए।

यात्रा में हजारों लोगों की जुटी भीड़ 

रविवार की सुबह वायु सेना के विशेष विमान से भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बेटी नमिता भट्टाचार्य अटल जी की अस्थियों को लेकर जॉलीग्रांट हवाई अड्डे पर उतरे।

यात्रा में हजारों लोगों की भीड़ जुटी। ‘वंदे मातरम्, भारत माता की जय और अटलजी आप अमर रहें’ के नारे लगाए गए।

Also Read : अटलजी की अस्थियां विसर्जित करने के लिए परिजन पहुंचे हरिद्वार

भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां आज यहीं पर ब्रह्मकुंड में हरकी पैड़ी स्थित गंगा में प्रवाहित की जाएंगी। अस्थि कलश यात्रा के दौरान देहरादून-हरिद्वार मार्ग पर भारी वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा।

विवार की सुबह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहरी वाजपेयी की अस्थियों को दिल्ली के स्मृति स्थल से तीन कलश में भरा गया। इसके बाद परिजन अस्थि कलश लेकर हरिद्वार के लिए निकले।

देशी ही नहीं विदेशी लोगों ने भी स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी की अस्थि कलश यात्रा पर पुष्प वर्षा की। यात्रा के हरकी पैड़ी में पहुंचने के बाद ब्रहकुंड में बने चबूतरे में अटलजी का अस्थि कलश स्थापित किया गया। मंत्रोच्चारण के साथ अंतिम क्रियाएं शुरू की गईं।

Also Read : अब 21 अगस्त को लखनऊ लाया जाएगा अटल जी का अस्थी कलश

पूरे विधि विधान के साथ गंगा में अटल बिहारी वाजपेयी जी की अस्थियां विसर्जित की गईं। इस दौरान उनकी दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य भावुक हो गई।

(साभार- अमर उजाला)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)