बढ़ते कोरोना के मामलों की ज़िम्मेदार सरकार: अनुपम खेर

0 390

देश में कोरोना की दूसरी लहर सब के लिए एक काल बन के आई है. कोरोना संक्रमितों का दर और मरने वालों का आकड़ा भी बेकाबू होता जा चिका है. ऐसे में बॉलिवुड के दिग्‍गज ऐक्‍टर अनुपम खेर (Anupam Kher) ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Govt) को तगड़ी नसीहत दी है। अनुपम खेर ने कहा कि सरकार को समझना होगा कि इस वक्‍त इमेज बनाने से ज्‍यादा जान बचाना जरूरी है। ऐसे तो अनुपम खेर को मोदी का प्रशंसक ही माना जात है लेकिन ये पहली बार देखा जा रहा अब अनुपम खेर ने मोदी की आलोचना सार्वजानिक मंच पर की.

जरूरी है सरकार को जिम्‍मेदार ठहराना


अनुपम खेर ने बुधवार को ‘एनडीटीवी’ को दिए इंटरव्‍यू में कहा, ‘कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच देश में जो कुछ हो रहा है, उसके लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराना जरूरी है। अधिकारियों की सार्वजनिक आलोचना ‘कई मामलों में वैध’ है।’

यह भी पढ़ें : मेंटल डिसऑर्डर कस शिकार हो सकते है कोरोना मरीज

सरकार से स्‍वास्‍थ्‍य संकट प्रबंधन में चूक हुई: अनुपम खेर


एफटीआईआई के पूर्व अध्‍यक्ष अनुपम खेर ने आगे कहा, ‘सरकार के लिए यह समझना बहुत जरूरी है कि इस समय इमेज बनाने से ज्यादा जरूरी जीवन बचाना है। सरकार से स्वास्थ्य संकट के प्रबंधन में कहीं ना कहीं चूक हुई है, लेकिन इन खामियों का फायदा दूसरे राजनीतिक दलों को भी अपने हक में नहीं उठाना चाहिए।’

चुनौतियों को सामना करे सरकार

जब इंटरव्यू के दौरान अनुपम खेर से पुछा गया कि सरकार की कोशिश अभी रहत देने के बजे अपनी इमेज बनाने में जायदा है, इस पर नैशनल अवॉर्ड विनर ऐक्‍टर ने कहा, ‘सरकार के लिए जरूरी है कि वह इस चुनौती का सामना करे और उन लोगों के लिए कुछ करे जिन्होंने उन्हें चुना है।’

यह भी पढ़ें : नहीं थम रही कोरोना की लहर, 24 घंटे में 4000 से ज्यादा मौत

बहती लाशों पर गुस्‍सा आना चाहिए

इस दौरान हाल ही गंगा और अन्य नदियों में मिलने वाले अज्ञात शवों का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा, ‘कई मामलों में आलोचना वैध है। कोई अमानवीय व्यक्ति ही नदियों में बहती लाशों से प्रभावित नहीं होगा। मेरे हिसाब से हमें गुस्सा आना चाहिए। जो हो रहा है, उसके लिए सरकार को ज़िम्मेदार ठहराना ज़रूरी हो गया है.

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More