pawan

पार्षद पवन केसरी मर्डर केस में खुलासा, छह गिरफ्तार

इलाहाबाद पुलिस ने आठ मई को फ़िल्मी अंदाज में मौत के घाट उतारे गए बीजेपी नेता व नगर पंचायत के सभासद पवन केसरी मर्डर केस का खुलासा करने का दावा करते हुए छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि बीजेपी नेता को गोली मारने वाले दोनों शूटर समेत तीन लोग अब भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।पुलिस के मुताबिक़ सभासद पवन केसरी का क़त्ल हत्या के एक मामले में आरोपियों की पैरवी किये जाने का बदला लेने के लिए की गई थी।

Also Read :  18 लोगों पर मौत बनकर गिरा वाराणसी पुल, 4 अफसर सस्पेंड

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में बेखौफ बदमाशों ने भाजपा नेता की गोली मार कर हत्या कर दी थी। भाजपा पार्षद पवन केसरी को बदमाशों ने उस वक्त गोली मार दी जब वह स्कूटी से अपने घर जा रहे थे। मृतक पवन केसरी इलाहाबाद से पार्षद था। मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक मृतक भाजपा नेता यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल नंदी का करीबी बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, इलाहाबाद के रहने वाले पवन केसरी बीजेपी के पार्षद थे। बीती रात वह अपने स्कूटी से घर जा रहे थे। उसी वक्त कुछ बदमाशों ने पीछा करके उन पर फायरिंग शुरू कर दी। पवन घटनास्थल पर ही नीचे गिर गए। इसके बाद बदमाश वहां से फरार हो गए। लोग आनन-फानन में उनको अस्पताल ले गए, लेकिन तब तक उनकी मौत हो गई।

वारदात को किसी आपसी रंजिश में अंजाम दिया गया है

बताया जा रहा है कि मृतक बीजेपी पार्षद ने गोली मारने की इस वारदात से कुछ देर पहले ही इलाहाबाद के एसएसपी से फोन पर बात करके उनसे मिलने के लिए समय मांगा था। पुलिस का मानना है कि इस वारदात को किसी आपसी रंजिश में अंजाम दिया गया है। इस मामले में शक के आधार पर तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। बीजेपी पार्षद पवन केसरी को सूबे के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल नंदी का बेहद करीबी माना जाता था।वह फूलपुर नगर पंचायत के वार्ड नंबर 11 से पार्षद थे। बीजेपी युवा मोर्चा में जिले का महामंत्री रहने के साथ ही आरएसएस से भी जुड़े हुए थे।

50 ख़तरनाक अपराधी ढेर किए जा चुके हैं

बताते चलें कि योगी आदित्यनाथ ने सूबे की कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए पुलिस को एनकाउंटर करने की खुली छूट दी हुई है। इसके बाद भी सत्ताधारी दल के नेताओं के साथ ऐसी वारदात पुलिस पर कई सवाल खड़े कर रही है।पिछले एक साल में 1200 एनकाउंटर में 50 ख़तरनाक अपराधी ढेर किए जा चुके हैं। इसके अलावा करीब 2000 से ज्यादा अभियुक्त गिरफ्तार हुए हैं। सत्ता में आते ही योगी ने कहा था कि गुंडे और बदमाश यूपी छोड़कर चले जाएं, नहीं तो जेल जाने के लिए तैयार रहें। हालांकि, यूपी पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाइयों के फलस्वरूप कुछ अपराधियों ने खुद थाने पहुंचकर सरेंडर किया था। फिर भी इलाहाबाद की घटना सनसनीखेज है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)